ताजमहल का इतिहास और रोचक तथ्य | Taj Mahal History In Hindi

दोस्तों आज हम ताजमहल के बारे में बात करेंगे Taj Mahal History In Hindi के अलावा हम इस पोस्ट में History of Taj Mahal In Hindi और  Mumtaz Mahal भी बताएंगे.

जैसे ही हम Agra City का नाम सुनते हैं सबसे पहले हमारे mind में Taj Mahal का ख़्याल ही आता है। सफ़ेद संगमरमर से बना यह महल असीम प्रेम की निशानी है।

Taj Mahal History In Hindi | History of Taj Mahal In Hindi |  Mumtaz Mahal | ताजमहल का इतिहास और रोचक तथ्य

ताजमहल का निर्माण मुग़ल शासक शाहजहाँ ने करवाया था। यह दुनिया के सात अजूबों ( Seven Wonders ) में से एक है। ताजमहल को UNESCO द्वारा World Heritage place Declared किया गया है। यह विश्व धरोहर के रूप में पूरे विश्व द्वारा सराहे जाने वाला ‘अतिउत्तम मानवीय कृतियों’ में से एक है। ताज़महल के बारे में ऐसा भी कहा जाता है कि Shah jahan ने इसका निर्माण करवाने के बाद अपने सभी कारीगरों के हाथ कटवा दिए थे ताकि वो दुबारा कोई ऐसी इमारत ना बना सकें।

ताजमहल के निर्माण का श्रेय पांचवें मुग़ल शासक शाहजहाँ को जाता है। शाहजहाँ ने भारत पर 1628 से 1658 तक शासन किया। शाहजहाँ ने अपनी सभी पत्नियों में प्रिय पत्नी मुमताज़ की याद में ताजमहल का निर्माण करवाया था।

taj-mahal in Hindi

Source

ताजमहल को मुमताज़ का मकबरा’ / Mumtaz Mahal भी कहते हैं। मुमताज़ की मृत्यु के बाद शाहजहाँ बहुत गमगीन हो गए। तब उन्होने अपने प्रेम को जिंदा रखने के लिए अपनी पत्नी की याद में ताजमहल / Mumtaz Mahal बनवाने का निर्णय लिया।

1631 के बाद ही शाहजहाँ ने आधिकारिक रूप से ताजमहल का निर्माण कार्य की घोषणा की तथा 1632 में ताजमहल का निर्माण कार्य शुरू कर दिया. ताजमहल के निर्माण में काफी समय लगा। वैसे तो इस मकबरे का निर्माण 1643 में ही पूरा हो गया था परंतु इसके सभी पहलुओं के निर्माण में ज्यादा समय लग गया।

सम्पूर्ण ताजमहल का निर्माण 1653 में लगभग 320 लाख रुपये की लागत में हुआ, जिसकी आज की कीमत 52.8 अरब रुपये है। इसके निर्माण में 20,000 कारीगरों ने मुग़ल शिल्पकार उस्ताद अहमद लाहौरी के अधीन कार्य किया।

ताजमहल का निर्माण पर्शियन और प्राचीन मुग़ल परम्पराओ को ध्यान में रखते हुए किया गया। प्राचीन मुग़ल काल में प्रायः इमारतो का निर्माण लाल बलुआ पत्थरो से किया जाता था लेकिन शाहजहाँ ने ताजमहल का निर्माण सफ़ेद मार्बल से करने की ठानी। इसी वज़ह से ताजमहल की सुंदरता को चार चाँद लग गये।

Taj Mahal History In Hindi | History of Taj Mahal In Hindi |  Mumtaz Mahal | ताजमहल का इतिहास और रोचक तथ्य

ताज़महल की बनावट और इसपर लिखे गए लेख – ताज़महल तक़रीबन 17 हेक्टेयर के परिसर में फैला हुआ है। ताजमहल की कुल ऊंचाई तक़रीबन 73 m है। [ The total height of the Taj Mahal is around 73 m. ]

मुमताज़ महल की कब्र आतंरिक कक्ष में स्थित है। उनकी कब्र का आधार लगभग 55 मीटर का बना है। उनकी कब्र का आधार एवं ऊपर का श्रृंगार रूप दोनों ही बहुमूल्य पत्थरो एवं रत्नों से जड़े है। इस पर किया गया सुलेखन मुमताज़ की पहचान एवं प्रशंसा है। शाहजहाँ की कब्र मुमताज़ की कब्र के दक्षिण की तरफ है।

मुमताज़ का मकबरा लगभग 42 एकड़ में फैला हुआ है। यह चारों तरफ से बगीचे से घिरा हुआ है। इसके तीन ओर से दीवार बनाई गयी है। इस मकबरे की नींव वर्गाकार है। वर्गाकार के प्रत्येक किनारे 55 मीटर के हैं।असल में इस इमारत का आकार अष्टकोण (8 कोणों वाला) है परंतु इसके आंठ कोणों की दीवारें बाकी के चार किनारों से बहुत चोटी है इसलिए इस इमारत की नींव का आकार वर्ग जैसा माना जाता है।

ताजमहल के चारों कोनों पर 40 मीटर ऊंची चार मीनारें हैं।इन चारों मीनारों का निर्माण कुछ इस तरह किया गया है कि यह चारों मीनार हल्की सी बाहर की तरफ झुकी हुई हैं। इनका बाहर की तरफ झुकाव के पीछे यह तर्क रखा गया कि, इमारत के गिरने की स्थिति में यह मीनारें बाहर की तरफ ही गिरे, जिससे की मुख्य ताजमहल की इमारत को कोई नुकसान न पहुंचे।

ताजमहल की दीवारों पर पहले काफी बहुमूल्य रत्न लगे हुए थे लेकिन 1857 की क्रांति में ब्रिटिशो ने उसे काफी हानि पहुँचाई थी। ताजमहल में मौजूद लेख फ्लोरिड ठुलूठ लिपि [ Florid Rhyme Script ] में लिखे गए हैं। इन लेख का श्रेय फारसी लिपिक अमानत खां को जाता है।यह लेख जेस्पर को सफ़ेद संगमरमर के फलकों में जड़ कर लिखा गया है। ताजमहल में लिखे लेख में कई सूरा वर्णित है। यह सूरा कुरान में मौजूद है । इस सूरा में कुरान की कई आयतें मौजूद है।

Taj Mahal In Hindi

आगरा में कई Factory and power plant हैं जिनसे कई घातक रासायनिक पदार्थ निकलते हैं। यह अम्ल हवा के साथ क्रिया कर अम्ल वर्षा में सहायक होता है। यह अम्ल वर्षा ताजमहल के संगमरमर पर गिर कर ताजमहल के संगमरमर (calcium carbonate) से क्रिया करने लगती है। अम्ल वर्षा के कारण सफ़ेद संगमरमर पीला पड़ने लगता है जिससे ताजमहल अपना सौन्दर्य खोने लगा है। अतः अम्ल वर्षा के  प्रभाव को रोकने के लिए अधिक मात्रा में पेड़ लगाने होंगे तथा कारखानों से आने वाले अम्ल को रोकना होगा।

उम्मीद करते है की आपको आपके Taj Mahal History In Hindi, Taj Mahal story In Hindi और  Mumtaz Mahal से जुड़े हुए सभी सवालों का सही जवाब मिल गया होगा. अगर आपके Taj Mahal History In Hindi से जुड़ी हुई और कोई Information है तो आप हमे Comment में जरुर बताएं.

Leave a Reply