अमीर से अमीर आदमी भी घर में इस जगह नहीं रखता जूते, आप भी मत रखना वर्ना बर्बादी तय है

वास्तुशास्त्र के अनुसार हर चीज के निर्माण को लेकर नियम बताए गए हैं। वास्तु के अनुसार नियमों को ध्यान में रखने से जीवन में सुख-समृद्धि बनी रहती है। वास्तु से आप अपने घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह कर सकते हैं। घर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होने से शांति का वातावरण रहता है। आपके कार्यों में रुकावट नहीं आती है। जिससे व्यक्ति आर्थिक उन्नति प्राप्त कर सकता है। वास्तु में दिशाओं का बहुत महत्व माना गया है। हर दिशा के अपने अलग दिग्पाल होते हैं। हर दिशा का अलग प्रभाव होता है, इसलिए वास्तु में दिशा के अनुसार निर्माण करने के बारे में बताया गया। जानते हैं कि किस दिशा में टॉयलेट का निर्माण करवाने से घर में धन की आवक रुक जाती है। 

वास्तु के अनुसार घर की उत्तर दिशा के देवता कोषाध्यश्र कुबेर हैं। इसलिए इस दिशा को धन की दिशा माना गया है। इस दिशा को हमेशा साफ-सुथरा रखना चाहिए। उत्तर दिशा में किसी प्रकार का दोष होने पर आपके घर में आर्थिक परेशानियां आने लगती हैं। इस दिशा में नकारात्मक ऊर्जा होने पर आपको धन संबंधित परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इसलिए पूर्व उत्तर दिशा में भूलकर भी टॉयलेट का निर्माण नहीं करवाना चाहिए। अगर आपके घर की उत्तर दिशा में किसी भी प्रकार की कोई अपवित्रता होती है तो आपको धन की किल्लत का सामना करना पड़ता है।

ज्यादातर घरों में जूते चप्पल रखते समय दिशा का ध्यान नहीं दिया जाता है लेकिन गलत दिशा और अव्यवस्थित तरह से रखे गए जूते चप्पल आपके घर में नकारात्मकता लाते हैं, जिससे आपको धन की परेशानी हो सकती है। उत्तर दिशा में भारी वस्तुएं जैसे फर्नीचर आदि भी नहीं रखना चाहिए।

Leave a Reply