क्यों हमें बैंक अकाउंट में 5 लाख रुपए से ज्यादा नहीं रखने चाहिए? यहां समझिए

क्‍या आपका बैंक में बचत खाता (Savings Bank) है. क्‍या आप जानते हैं कि इस बचत खाते में जमा कितनी रकम सेफ है. मतलब अगर बैंक किसी कारण से डूब जाता है तो आपको कितनी रकम वापस मिलेगी. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने बजट 2020 (Budget 2020) में ऐसा ही एक नियम बदला था. बैंकों में रखी आपकी 5 लाख रुपए तक की रकम सुरक्षित है. लेकिन, अगर बैंक में 5 लाख रुपए से ज्यादा जमा है तो क्या होगा? क्यों हमें अपने अकाउंट में 5 लाख रुपए से ज्यादा नहीं रखने चाहिए? आइये समझते हैं…

बजट 2020 में बदला था नियम (Budget 2020 rules changed)

दरअसल, पिछले बजट में सरकार ने बैंक गारंटी की रकम को बढ़ाकर 5 लाख रुपए कर दिया था. इससे पहले बैंक गारंटी सिर्फ 1 लाख रुपए थी. 4 फरवरी 2020 से इस नियम को लागू भी कर दिया गया है. अगर अब कोई बैंक डूबता है तो आपके खाते में जमा 5 लाख रुपए तक सुरक्षित हैं. बैंक आपको 5 लाख रुपए लौटाएगा. यह कवर रिजर्व बैंक की पूर्ण स्वामित्व वाली इकाई जमा बीमा और कर्ज गारंटी निगम (DICGC) देगा.

कैसे होता है आकलन? (How your money is assesment)

किसी भी बैंक में एक व्यक्ति के सभी खातों को मिलाकर पांच लाख रुपए की गारंटी होती है. मतलब अगर आपने एक ही बैंक में पांच लाख रुपए की FD (Fixed deposit) करा रखी है और उसी में बचत खाते में तीन लाख रुपए भी जमा हैं तो बैंक डूबने की स्थिति में पांच लाख रुपए ही आपको वापस मिलेंगे. आपके खाते में जितने चाहे पैसे हों, कुल रकम सिर्फ 5 लाख रुपए तक ही सुरक्षित होगी. मसलन अगर किसी के अकाउंट में 10 लाख रुपए और अलग से FD भी कराई हुई है. ऐसे में बैंक डूबने या दिवालिया होने पर आपको सिर्फ 5 लाख रुपए की रकम इंश्योयर्ड होगी.

Leave a Reply