नागरिकता संशोधन बिल रवीश कुमार ने दिया बयान, बोले अमित शाह…

दोस्तों आपका बहुत – बहुत स्वागत है, आज की हमारी इस खबर में हम आपको नागरिकता संशोधन बिल से जुड़ी एक खबर बता रहे है. जब से यह बिल पास हुआ है तब से बहुत से लोगों के बयान आ चुके है. हाल ही में रवीश कुमार ने भी एक बयान दिया है. आज हम आपको रवीश कुमार के दिए हुए बयान के बारे में बता रहे है.

देश की राजनीति में इस समय नागरिकता संशोधन बिल में उबाल आ गया है। कांग्रेस के सभी विपक्षी दल इस बिल के खिलाफ खड़े हो गए हैं। भारतीय जनता पार्टी की सरकार इस विधेयक को पहले ही लोकसभा से पारित कर चुकी है। जहां बीजेपी नेता बिल के पक्ष में बयान दे रहे हैं, वहीं विपक्षी नेता विरोध में बयान दे रहे हैं। दूसरी ओर, एंकर रवीश कुमार ने भी पहली बार इस बिल पर चुप्पी तोड़ी है। उन्होंने अपने ब्लॉग में भाजपा सरकार से एक बड़ा सवाल पूछा है।

अमित शाह ने राज्यसभा में बिल पेश किया

यह विधेयक लोकसभा में अमित शाह द्वारा पेश किया गया था। इसके साथ ही उन्होंने यहां विपक्षी दलों के सांसदों को भी जवाब दिया। बुधवार को, उन्होंने राज्यसभा में भी विधेयक पेश किया और विपक्ष के सवालों का जवाब दिया। आंकड़ों की बात करें तो भले ही राज्यसभा में बीजेपी के पास बहुमत नहीं है, लेकिन सरकार को बिल पास करने में ज्यादा परेशानी नहीं होने वाली है। आपको बता दें कि इस बिल को लोकसभा में 311 वोट मिले और बिल पास हुआ।

जानिए क्या बोले एंकर रवीश कुमार

एंकर रवीश कुमार ने भी पहली बार बिल पर चुप्पी तोड़ी है। उन्होंने अपने ब्लॉग में कहा है कि अमित शाह बोलते हैं कि यह बिल किसी के खिलाफ नहीं है। एंकर रवीश ने पूछा कि इस बिल में हिंदू, ईसाई, जैन, सिख, पारसी और बौद्ध को नागरिकता मिलती है लेकिन मुसलमानों का इसमें नाम नहीं है। रवीश ने कहा कि अगर जो बिल लाया गया है उसका आधार केवल उत्पीड़न है तो केवल एक धर्म पर चुप्पी क्यों है। यदि केवल धर्म ही आधार है तो उत्पीड़न का सहारा क्यों लिया जा रहा है?

Leave a Reply