बच्चों का दूध छुड़वाने के लिए माँ करती है कुछ ऐसे काम, हँसते-हँसते हो जाओगे लोटपोट

एक माँ अपने बच्चें को लगातार 6 महीने तक सिर्फ अपना ही दूध पिलाती है. और इसके अलावा और कुछ भी नहीं करती है. और 6 महीनों के बाद भी 2 साल तक दूध पिलाती है. लेकिन 6 महीनों के बाद में माँ अपने बच्चो को माँ के दूध के अलावा और सेमीसॉलिड भी देती है.

लेकिन आपको शायद इस बात के बारे में पता नहीं होगा कि जब माँ अपने बच्चे को दूध पिलाती है. तब तक उस माँ के मासिक धर्म नहीं आता है. आज हम आपको ऐसी ही कुछ काम के बारे में बता रहे है जिनका इस्तेमाल एक माँ अपने बच्चों की सकिंग को कम करने के लिए करती है.

Loading...

नीम की कडवाहट

किसी भी माँ बेटा दो साल का हो गया था. पर दूध पीना नहीं छोड़ रहा था. तब वंदना की सास ने उसे सलाह दी कि वो अपने निप्पल पर नीम का तेल लगा ले. तेल के कड़वेपन की वजह से बेटे जी ने दूध पीना छोड़ दिया.

कुमकुम का बना दिया खून

ये तो बड़ा ही मज़ेदार किस्सा है. आएशा का बेटा तीन साल का हो गया था. पर ब्रेस्टफीडिंग करना नहीं छोड़ रहा था. आएशा ने अपने ब्रेस्ट पर कुमकुम लगाना शुरू कर दिया. बेटे को बोला ख़ून है. चोट लग गई है. बच्चा कुमकुम को ख़ून समझ कर डरने लगा. दूध पीना भी छोड़ दिया.

मिर्ची को भी मसलना

प्रिया तो इतनी परेशान हो गई थी कि उसे अपने निप्पल पर मिर्च लगानी शुरू कर दी. वो मिर्च पाउडर को थोड़े से पानी में घोलकर उसका पेस्ट लगा लेती. जैसे ही बच्ची के मुंह में मिर्च गई वो तिलमिला गई. हां, ये थोड़ा दर्दनाक तो था. पर तब से बच्ची ने दूध पीना छोड़ दिया.

भुत की फिल्म से डराकर

दीप्ति अब ख़ुद 27 साल की है. उसने सही समय पर मां का दूध पीना छोड़ दिया था. पर उसके छोटे भाई ने ढ़ाई-तीन साल तक दूध पीना नहीं छोड़ा. मम्मी परेशान. एक दिन मम्मी टीवी देखते-देखते दूध पिला रही थीं. टीवी पर आ रही थी ‘द मम्मी रिटर्न्स.’ उसमें एक सीन था. बम जैसा धमाका होता है और निकलते हैं कीड़े. टीवी पर आवाज़ की वजह से छोटू का ध्यान भी बट जाता है. वो टीवी की तरफ़ देखता है. जैसे ही दूध पीने के लिए उसने वापस मुंह घुमाया, मम्मी ने कहा: “अब यहां से भी ऐसे ही कीड़े निकलेंगे.”

फिर क्या था! छोटू डर गया. दूध पीना छोड़ दिया.

क्या मास्टर प्लान बनाया

वत्सला की बेटी तीन साल तक दूध पीती रही. वो अपने ब्रेस्ट पर कुछ भी लगाती, उसकी बेटी उसे साफ़ कर देती. फिर दूध पीना शुरू कर देती. वत्सला नहीं पिलाती तो रो-रोकर सारा घर सर पर उठा लेती. एक दिन वत्सला सीढ़ियों से गिर गई. उसका पैर टूट गया. प्लास्टर चढ़ाना पड़ा. सफ़ेद रंग का प्लास्टर देखकर बच्ची ऐसे डरी कि उसने अपने आप दूध पीना छोड़ दिया.

चूसने का सही तरीका

आभा की मां ने उसे एक सही ट्रिक बताई. कहा: “बच्चे के हाथ में एक चूसनी पकड़ा दो. उसमें शहद भर दो. बच्चा उसे चूसता रहेगा.” ट्रिक काम आई. धीरे-धीरे आभा ने अपने बेटे को बोतल से दूध पीने की आदत डलवा दी.

ब्रेस्ट पर नेल पॉलिश लगाना

सोनाली का किस्सा बड़ा मज़ेदार है. वो अपने ब्रेस्ट पर लाल नेल पॉलिश लगा लेती. बच्चे को कहती ख़ून है. बच्चा डर के मारे दूध नहीं पीता.