यह 10 आदते है मानसिक बीमारी होने का संकेत, गलती से भी ना करे नजरअंदाज

आप शायद यह बात नहीं जानते होंगे कि कोई भी इंसान मानसिक रूप से कभी भी स्वस्थ नहीं होता है. उसमें किसी ना किसी तरह की कोई ना कोई मानसिक बीमारी होती है. हालांकि उसकी मात्रा ज्यादा नहीं होती है. लेकिन बहुत सी बार हमारा शरीर भी ऐसे कुछ संकेत देता है. जिससे हमे यह पता चल जाता है कि अब मानसिक बीमारी होने वाली है. और इन संकेतों को कभी भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए.

1.डिप्रेशन

Loading...

भाग दौड़ भरी लाइफ स्टाइल के कारण आजकल लोग डिप्रेशन वे तनाव के शिकार हो रहे हैं. लेकिन यह एक तरह का मानसिक रोग है. यदि समय रहते डिप्रेशन और तनाव को दूर ने किया जाए तो यह गंभीर रूप धारण कर लेता है.

2.क्‍लेप्‍टोमनिया

कुछ लोगों को कुछ चीजें चोरी करने की आदत होती है. लेकिन आप लोगो को नहीं पता कि चोरी करने की आदत भी एक मानसिक बीमारी है. यदि आप छोटी-छोटी चीज चुराते हैं तो आप मानसिक बीमारी से ग्रस्त हैं और जो लोग छोटी मोटी चीजें चोरी करते हैं वह जानबूझकर नहीं बल्कि मानसिक प्रॉब्लम के चलते सामान चुराते हैं.

3.साइक्‍लोथीमिया 

अनुवांशिक रुप से होने वाली बीमारियां महिला व पुरुषों को समान रूप से प्रभावित करती हैं. मस्तिष्क में होने वाली यह समस्या एक द्विध्रुवी विकार है. जिसका आज तक नहीं पता चल पाया लेकिन यह समस्या लोगों में आनुवांशिक भी हो सकती है.

4.पाइरोमनिया

इस मानसिक प्रॉब्लम से ग्रस्त इंसान को हद से ज्यादा गुस्सा आता है.इस बीमारी में बड़ों से लेकर बच्चों तक इस बीमारी से ग्रस्त होने पर अपने गुस्से पर कंट्रोल नहीं कर पाते है.

5.ट्रीकोटिलोमनिया

यदि कोई व्यक्ति इस बीमारी से ग्रस्त है. तो वह हर बुरी सिचुएशन में अपने बाल खींचते हैं. और कुछ लोग ऐसे भी हैं जो अपने बाल खाते भी हैं. इस बीमारी के कारण तनाव और पीटीएसडी से ग्रस्त लोगों में इस के लक्षण बढ़े भी जाते हैं.

6. स्‍लीप पैरालिसिस

यदि आप सोते समय अचानक से उठ जाते हैं या अपने शरीर को हिला नहीं पाते है. यदि आपके साथ भी ऐसा होता है. तो आप स्लिप पैरालाइसिस यानी निंद्रा लकवा के शिकार हैं. आपको बता दें स्लीप पैरालिसिस हो जाने पर यह रोग आपको बुरे सपनों का एहसास करवाता है. और इस बीमारी से ग्रस्त लोगों को कभी कभी पूरी रात नींद भी नहीं आती है.

7.डीरियलाइजेशन

इस बीमारी से ग्रस्त व्यक्ति अपने आसपास की हर चीजें झूठी मानता है. इस बीमारी में लोग माइग्रेन, मिर्गी और सिर पर हल्के चोट के कारण डीरियलाइजेशन के सिकारहो सकते हैं. इसमें नींद न आना सीजोफ्रेनिया वे बॉर्डर लाइन पर्सनॉलिटी डिसऑर्डर जैसी समस्या के लक्षण दिखाई देते हैं.

8.कृत्रिम विकार

इस बीमारी से ग्रस्त लोग मानसिक और दिमागी तौर पर आलसी हो जाते हैं. और काम से भी जी चुराते हैं. और किसी भी काम को करना पसंद नहीं करते है.

9.एगरफोबिया

जब किसी व्यक्ति को एगरफोबिया नामक बीमारी हो जाती है तो वह भीड़ से भी डरता है और ऐसी जगह जाने से भी उसे प्रॉब्लम होती है. कुछ मामलों में तो ऐसे लोग घर से बाहर भी नहीं निकल पाते, वे कुछ ज्यादा लोगों को घर में देखकर भी घबरा जाते हैं.

10.भांग खाना

जो लोग हद से ज्यादा भांग खाने की बुरी आदत से पीड़ित होते हैं. उन्हें Cannabis Dependence डिसऑर्डर होता है.यदि कोई व्यक्ति भांग ना खाए तो उसे बेचैनी व अनिद्रा की समस्या उत्पन्न होने लगती है.