सरकार ले आई नया नियम, कामगारों को मुफ्त में घर जाने का मिलेगा मौका, कंपनी देगी टिकट का पैसा

कोरोना काल में बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूरों ने अपने घर का रुख किया है। इस दौरान ज्यादातर कंपनियों ने अपना पल्ला झाड़ लिया और इस कारण से मजदूरों को कई तरह की परेशानी हुई।

यह नहीं है, मजदूरों के पलायन को लेकर भी एक लंबी बहस छिड़ी थी। हालांकि, अब सरकार ने एक ऐसा नियम बनाया है जिसके तहत वर्ष में एक बार कामगारों के दूरी की जिम्मेदारी कंपनी की होगी। आइए इस नए नियम के बारे में जानते हैं।

दरअसल, केंद्र सरकार के लेबर कोड बिल को सदन से मंजूरी मिली है। इसमें प्रावधान है कि प्रवासी मजदूरों को साल में एक बार अपने घर नगर की यात्रा के लिए कंपनी से यात्रा भत्ता मिलेगी।

मतलब ये कि उस साल में एक बार मजदूरों को अपने घर जाने के लिए टिकट का खर्च देने की जरूरत नहीं होगी, क्योंकि ये पैसे कंपनी करेगी।

बता दें कि लेबर कोड बिल के एक अन्य प्रावधान में कंपनी अपने कामगारों का हेल्थ चेकअप भी करवाएगी। यह कहता है कि एक निर्धारित उम्र से अधिक आयु वाले कामगारों के लिए साल में एक बार मुफ्त चिकित्सा जांच अनिवार्य है।

इसके साथ ही कामगारों को नियुक्ति पत्र प्राप्त करने का कानूनी अधिकार दिया गया है। ये नियम पहली बार लागू हो रहे हैं।

Leave a Reply