बनने के बाद ऐसा दिखेगा अयोध्या का राम मंदिर, सरकार ने भूमि पूजन से पहले जारी की फ़ोटो

अयोध्या में राम जन्मभूमि निर्माण के लिए भूमि पूजन से पहले धार्मिक गतिविधियां शुरू हो गई हैं. कल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहुंचेंगे. श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ने कई ट्वीट और संवाददाता सम्मेलन में बताया कि मुख्य समारोह के लिए आमंत्रित किए गए 175 लोगों में से 135 संत हैं जो विभिन्न आध्यात्मिक परंपराओं का हिस्सा हैं.

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ने मंदिर का मॉडल भी जारी किया है. जो देखने में काफी भव्य लग रहा है.

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ने ट्वीट कर कहा, ”श्री राम जन्मभूमि मंदिर भव्यता और दिव्यता की अद्वितीय कृति के रूप में विश्व पटल पर उभरेगा. मन्दिर के आंतरिक और बाह्य स्वरूप के कुछ और चित्र.”

अयोध्या में प्रस्तावित राम मंदिर का आकार बड़ा और भव्य होगा. मंदिर के मुख्य वास्तुकार सी. सोमपुरा के बेटे और वास्तुकार निखिल सोमपुरा ने पिछले दिनों कहा था किमंदिर का पिछला डिजाइन 1988 में तैयार किया गया था. उसे 30 साल से अधिक समय हो चुका है .. यहां अधिक लोगों के आने की संभावना है. लोग मंदिर जाने को लेकर भी बहुत उत्साहित हैं. इसलिए, हमने सोचा कि इसका आकार बढ़ाया जाना चाहिए.

संशोधित डिजाइन के अनुसार, मंदिर की ऊंचाई 141 फीट से बढ़ाकर 161 फीट कर दी गई है. सोमपुरा ने आगे कहा कि मंदिर के डिजाइन में दो और मंडपों को जोड़ा गया है और पहले के डिजाइन के आधार पर उकेरे गए पत्थरों और सभी स्तंभों का उपयोग भी किया जाएगा. नए डिजाइन में सिर्फ दो नए ‘मंडप’ जोड़े गए हैं.

साल 1988 में तैयार मूल डिजाइन में मंदिर की ऊंचाई 141 फीट बताई गई है, जिसे बढ़ाकर 161 फीट लंबा कर दिया गया है. सोमपुरा ने कहा कि मंदिर के निर्माण में करीब साढ़े तीन साल लगेंगे.

अयोध्या में कल होने वाले ‘भूमि पूजन’ से एक दिन पहले आज सुबह ‘रामार्चा’ पूजा शुरू हुई. रामार्चा पूजा जिसमें राम कथा और राम धुन का पाठ शामिल है. हनुमान गढ़ी मंदिर में भगवान हनुमान के ‘पताका’ (ध्वज) की विशेष पूजा भी की जा रही है.

Leave a Reply