सुशांत केस की जांच के लिए मुंबई पहुंचे पटना के SP विनय तिवारी को ‘जबरन’ किया गया क्वारंटीन

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत केस की जांच करने के लिए बिहार से मुंबई पहुंचे पटना सिटी एसपी विनय तिवारी को 15 अगस्त तक के लिए क्वारंटीन कर दिया गया है. तिवारी को मुंबई के पहली रात एसआरपीएफ के गोरेगांव के कैंप में बितानी पड़ी. तिवारी को क्वारंटीन किए जाने पर बिहार पुलिस ने नाराजगी जताई है. बिहार पुलिस का कहना है कि पटना के सिटी एसपी विनय तिवारी को होम क्वारंटीन नहीं बल्कि हमारी जांच को रोकने के लिए उन्हें एक तरीके से हाउस अरेस्ट किया गया है. बिहार पुलिस की जांच को रोकने के लिए ये कदम जानबूझकर उठाया गया है. 

बिहार डीजेपी गुप्तेश्वर पांडेय ने एक ट्वीट के जरिये अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए लिखा, “आईपीएस ऑफिसर विनय तिवारी आज पटना से मुंबई ऑफिशियल ड्यूटी के तहत बिहार की पुलिस टीम का नेतृत्व करने गए थे लेकिन बीएमसी के अधिकारियों ने रात 11 बजे जबरन उन्हें क्वारंटीन कर दिया. उन्हें अनुरोध के बावजूद आईपीएस मेस नहीं दिया गया.”  

सूत्रों के मुताबिक विनय तिवारी आईपीएस ऑफिसर्स मेस में ठहरना चाहते थे. इसके लिए उन्होंने डीसीपी बांद्रा यानी अभिषेक त्रिमुखे से बात की थी. डीसीपी 9 ने उन्हें आईजी हेडक्वार्टर से संपर्क करवाया, जो उन्हें ठहरने के लिए कमरा दिलवाते लेकिन जब विनय तिवारी आए तो उसके बाद से आईजी हेडक्वार्टर ने उनका फोन ही नहीं उठाया. 

सूत्रों के मुताबिक क्योंकि मुंबई कमिश्नरेट है इसलिए डीसीपी कैंपस के पास उन्हें कोई साधन उपलब्ध कराने का अधिकार नहीं है. उन्होंने आईजी एडमिन से बात की. आईजी एडमिन का कहना है कि कोरोना की वजह से ऑफिसर्स मेस ऑपरेशन में नहीं है और वहां पहले से ही एक कोरोना का मरीज पाया जा चुका है. इसीलिए एसपी विनय तिवारी को SRPF के गेस्ट हाउस के ठहराया गया है. हालांकि, बीएमसी के सूत्रों के मुताबिक विनय तिवारी को 15 अगस्त तक के लिए होम क्वारंटीन किया गया है. 

Leave a Reply